डोमेन नेम क्या होता है | डोमेन नेम कितने प्रकार की होते हैं

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है कुलदीप शाक्य आज मैं आपको बताने वाला हूं, Domain name क्या होता है, और इसका उपयोग internet में कैसे किया जाता है, इसकी पूरी जानकारी आज मैं विस्तारपूर्वक आपको बताने वाला हूं।
डोमेन नेम क्या होता है  डोमेन नेम कितने प्रकार की होते हैं

दोस्तों जिस तरह हमें हमारे name से लोग जानते हैं, जो हमारा name होता है उसी से हम को लोग पुकारते हैं,वो नाम ही हमारी पहचान होता है, उसी प्रकार internet पर आपकी blog या website का एक नाम होता है, जिसे हम domain name कहते हैं।

दोस्तों domain नेम क्या होता है, यह आपको पता चल गया होगा,  डोमेन नेम कितने प्रकार की होते हैं,top leval domain और low lable domain में क्या अंतर होता है, इन सब बातों को जानेंगे, अगर आप जानना चाहते हैं तो इस post को पूरा पढ़ें।

Domain Name क्या होता है

दोस्तो domain name ब्लॉग या वेबसाइट का नाम ही होता है,जिसकी मदद से हमारे ब्लॉग या वेबसाइट की पहिचान होती है,लोग इसी नाम से blog या website को जानते है।
Internet के हिसाब से domain name एक address होता है,जिसके होने से ही लोग आपकी वेबसाइट को जानते है।

अक्सर अपने website के बाद .com,.edu org, .in, .net लगे हुए देखे होंगे,ये सभी top lable डोमेन के अंतर्गत आते है,अगर आप इनके बारे में नही जानते है।तो मैं आपको इनकी पूरी जानकारी बताता हूं।
डोमेन नेम क्या होता है  डोमेन नेम कितने प्रकार की होते हैं

डोमेन नेम कितने प्रकार के होते हैं

●टॉप लेवल डोमेन्स
●contry कोड टॉप लेवल डोमेन्स
●सेकंड लेवल डोमेन्स
●थर्ड लेवल डोमेन्स
 दोस्तो इनके बारे में थोड़ा जान भी लेते है,कि ये domain काम कैसे करते है।

●टॉप लेवल डोमेन्स

दोस्तो इस डोमेन को टॉप लेबल domain इसलिए कहाँ जाता है,क्योंकि इस डोमेन को google, bing, yahoo, सर्च ingne ज्यादा मान्यता देते है,मान लीजिए अगर आपके पास एक टॉप lable डोमेन है,और एक सेकंड lable डोमेन है,तो इनमें गूगल आपके top लेबल domain को जल्दी रैंक करेगा।
techbabtoo.com मे .com एक टॉप लेवल डोमेन है  उदाहरण जैसे :

【.Com ( Commercial sites )
【.Org ( Organization sites )
【.Edu ( Education sites )
【.Gov ( Government sites )
【.Net. ( Commercial sites )

ये सभी top lable domains होते है,और ये गूगल में rank आसानी से हो जाते है।वेब सर्वर क्या होता है? ये कैसे काम करता है

●country टॉप लेवल डोमेन्स


कंट्री टॉप लेवल डोमेन्स ये डोमेन भी एक top lable ही होता है।इसमें इतना फर्क होता है,की ये सिर्फ एक देश मे ही रैंक करता है,इस डोमेन से ये पता चल जाता है कि आपकी वेबसाइट किस देश की है,क्योंकि बाद में आपकी कंट्री का code दिखाई देगा,आप जिस देश का domain लेंगे ये उसी देश मे ज्यादा रैंक करेगा,मान लेते है,आपने .in लिया इसमे india का कन्ट्री कोड है,ये भी टॉप lable domain है लेकिन ये सिर्फ इंडिया में ही रैंक करेगा।
Country code डोमेन
.In (india के लिए )
.Us(united state के लिए )
.Ca(canada के लिए )
डोमेन नेम क्या होता है  डोमेन नेम कितने प्रकार की होते हैं

●सेकंड लेवल डोमेन्स

सेकंड लेवल domain हमारे top lable domain के .com के आगे आता है।यह एक प्रकार का नाम ही होता है
जैसे blogspot.com मे blogspot सेकंड लेवल domain है और  .com टॉप लेवल domain है

●थर्ड लेवल डोमेन्स या sub domain

इसको हम sub डोमेन भी कहते है,ये एक दम फ्री में मिल जाता है,अगर आप ब्लॉगर पे अपना blog बनायेगे तो आपको एक sub domain फ्री में मिल जाएगा।
इसको रैंक करना भी बहुत मुश्किल होता है,क्योंकि ये एक sub domain होता है,फ्री होने के कारण गूगल में इसकी वेल्यू काम हो जाती है।
Sub domain का उदाहरण
techbantoo.blogspot.com ये एक sub domain है जो कि blogger पे फ्री में मिल जाता है।

दोस्तो अब आपको पता चल गया होगा कि डोमेन नाम क्या होता है और इसके कितने प्रकार होते है, इसके बाद बात आती है hosting की होस्टिंग क्या होती हैं और ये कितने प्रकार की होती है दोस्तो अगर आपको कोई भी डाउट है,तो नीचे comment बॉक्स में हमे बताये हम आपको reply जरूर करेंगें
★धन्यवाद★

Previous
Next Post »

1 comments:

Click here for comments
Unknown
admin
27 September 2019 at 19:57 ×

Nice post sir g acchi jankari Di hai

Congrats bro Unknown you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar